Pratibimb / प्रतिबिम्ब

The Image

कदम्ब का पेड़ (Kadamb ka Ped)

with 4 comments

यह कदम्ब का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे
मैं भी उस पर बैठ कन्हैया बनता धीरे-धीरे

ले देतीं यदि मुझे बांसुरी तुम दो पैसे वाली
किसी तरह नीची हो जाती यह कदम्ब की डाली

तुम्हें नहीं कुछ कहता पर मैं चुपके-चुपके आता
उस नीची डाली से अम्मा ऊँचे पर चढ़ जाता

वहीं बैठ फिर बड़े मजे से मैं बांसुरी बजाता
अम्मा-अम्मा कह वंशी के स्वर में तुम्हे बुलाता

सुन मेरी बंसी को माँ तुम इतनी खुश हो जातीं
मुझे देखने को तुम बाहर काम छोड़ कर आतीं

तुमको आता देख बांसुरी रख मैं चुप हो जाता
पत्तों में छिप कर फिर धीरे से बांसुरी बजाता

बहुत बुलाने पर भी माँ जब नहीं उतर कर आता
माँ, तब माँ का हृदय तुम्हारा बहुत विकल हो जाता

तुम आँचल फैला कर अम्मां वहीं पेड़ के नीचे
ईश्वर से कुछ विनती करतीं बैठी आँखें मीचे

तुम्हें ध्यान में लगी देख मैं धीरे-धीरे आता
और तुम्हारे फैले आँचल के नीचे छिप जाता

तुम घबरा कर आँख खोलतीं, पर माँ खुश हो जाती
जब अपने मुन्ना राजा को गोदी में ही पातीं

इसी तरह कुछ खेला करते हम-तुम धीरे-धीरे
यह कदम्ब का पेड़ अगर माँ होता यमुना तीरे

– सुभद्राकुमारी चौहान

Written by timir

August 10, 2012 at 8:32 pm

4 Responses

Subscribe to comments with RSS.

  1. I Love this Poem…….

    Kanti Bhushan

    August 12, 2012 at 11:12 am

  2. Waaaaai! Ganbarre! (hug) I’m very proud of you, and I don’t think I’ll ever get tired of saying so. I’m very proud of you. there, I said it again.ud83 Click http://d2.ae/hool090730

    neldasharp1332

    April 8, 2016 at 11:38 pm

  3. beautiful poem dil chu gaye.

    Surekha

    May 1, 2016 at 4:55 pm

  4. its a very nice and interesting poem.And I think that everyone will like it. And all my old memories have been refreshed :]

    Ishika Rana

    June 26, 2016 at 3:23 pm


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: