Pratibimb / प्रतिबिम्ब

The Image

Mirza Ghalib’s Ghazals (part-I) : आह को चाहिये (Aah Ko Chahiye)

leave a comment »

आह को चाहिये इक ‘उम्र असर होने तक
कौन जीता है तेरी ज़ुल्फ़ के सर होने तक ?

आशिक़ी सब्र तलब और तमन्ना बेताब
दिल का क्या रंग करूँ ख़ून-ए-जिगर होने तक ?

सब्र = patience, तलब = search

दाम हर मौज में है हल्क़ा-ए-सद-काम-ए-नहंग
देखें क्या ग़ुज़रे है क़तरे पे गुहर होने तक

दाम = net/trap, मौज = wave , हल्क़ा = ring/circle , सद = hundred , नहंग = crocodile
सद-काम-ए-नहंग = crocodile with a hundred jaws, गुहर = pearl

हम ने माना के तग़ाफ़ुल न करोगे, लेकिन
ख़ाक हो जायेंगे हम तुमको ख़बर होने तक

तग़ाफ़ुल = neglect/ignore

पर्तव-ए-खुर से है शबनम को फ़न’आ की तालीम
मैं भी हूँ इक इनायत की नज़र होने तक

पर्तव-ए-खुर = sun’s reflection/light/image,शबनम = dew, फ़न’आ = mortality, इनायत = favour

यक़-नज़र बेश नहीं फ़ुर्सत-ए-हस्ती ग़ाफ़िल
गर्मी-ए-बज़्म है इक रक़्स-ए-शरर होने तक

बेश = too much/lots,फ़ुर्सत-ए-हस्ती = duration of life, ग़ाफ़िल = careless, रक़्स = dance
शरर = flash/fire

ग़म-ए-हस्ती का “असद” किस’से हो जुज़ मर्ग इलाज
शम्म’आ हर रंग में जलती है सहर होने तक

हस्ती = life/existence, जुज़ = other than , मर्ग = death,सहर = morning

Written by timir

September 20, 2006 at 8:27 am

Posted in हिन्दी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: